Tel: +91 9868065222 | Mail: infomslive@gmail.com



2014 में दुनिया को अलविदा कह गए ये सितारे

  • 25/12/2014
    मुंबई। पूरी दुनिया में नए साल का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है। हर कोई खट्टी-मीठी यादों के साथ 2014 को अलविदा कहने की तैयारी में है। जल्द ही खत्म होने जा रहा ये साल लाखों पलकों को भिगो भी गया। 2014 में कई फिल्मी हस्तियों ने भी हमारा साथ छोड़कर इस दुनिया को अलविदा कह दिया। आइए नज़र डालते हैं उन सितारों पर, जो इस साल में हमेशा के लिए ये जहां छोड़ गए।
    फिल्मों के दिग्गज कलाकार देवेन का 2 दिसंबर को पुणे में दिल का दौरा पड़ने और किडनी फेल होने के चलते निधन हो गया। उन्हें कॉमिक किरदारों के लिए जाना जाता था। देवेन को 1975 में आई फिल्म 'चोरी मेरा काम' के लिए पहली बार बेस्ट कॉमेडियन का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था। उन्होंने 'चोर के घर चोर', 'अंगूर', 'गोल माल', 'खट्ठा मीठा', 'नास्तिक', 'रंग बिरंगी', 'दिल', 'जुदाई', 'अंदाज अपना अपना' और 'दिल तो पागल है' जैसी बेहतरीन फिल्मों में यादगार परफॉर्मेंस दी।
    मशहूर कथक डांसर सितारा देवी का लंबी बीमारी के बाद 25 नवंबर को मुंबई में निधन हो गया था। 60 दशक से भी ज्यादा समय तक एक प्रतिष्ठित डांसर रही सितारा देवी ही थी, जो इस विधा को बॉलीवुड में लेकर आईं। 1973 में उन्हें पद्म श्री पुरस्कार की घोषणा की गई थी, लेकिन उन्होंने ये इसे ये कहते हुए ठुकरा दिया था कि इस जगत में उनका योगदान बहुत बड़ा है और वो भारत रत्न से कम की उम्मीद नहीं रखती।
    बॉलीवुड में नकारात्मक भूमिकाओं के लिए मशहूर दिग्गज कलाकार सदाशिव के फेफड़ों में संक्रमण था और इसके चलते 2 नवंबर को वो इस जहां को अलविदा कह गए। सदाशिव को फिल्म 'अर्ध सत्य' के लिए फिल्म फेयर बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर और 'सड़क' में नकारात्मक ट्रांसजेंडर के किरदार के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिला था। सदाशिव 'अर्द्धसत्य', 'तेरी मेहरबानियां', 'हुकूमत', 'आखिरी रास्ता', 'खतरों के खिलाड़ी', 'सड़क', 'आंखें', 'दुश्मन', 'कुली नंबर वन' और 'हम साथ साथ हैं' जैसी कई फिल्मों में काम कर चुके थे
    प्रसिद्घ अभिनेत्री और रंगमंच कलाकार जोहरा सहगल का 10 जुलाई को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वो 102 वर्ष की थीं। उन्होंने 'हम दिल दे चुके सनम', 'बैंड इट लाइक बेकहम' और 'चीनी कम' जैसी फिल्मों में काम किया। जोहरा को 1998 में पद्मश्री, 2002 में पद्म भूषण और 2010 में पद्म विभूषण से नवाजा जा चुका है।
    पुराने जमाने की मशहूर अभिनेत्री नंदा का 25 मार्च को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। 'धूल का फूल', 'गुमनाम', 'तीन देवियां', 'जब जब फूल खिले' और 'प्रेम रोग' जैसी फिल्मों में उनके अभिनय को काफी सराहा गया था। वो अपने लंबे करियर में 60 से भी ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकी थी।

Nullamlacus dui ipsum conseque loborttis

Nullamlacus dui ipsum conseque loborttis non euisque morbi penas dapibulum orna. Urnaultrices quis curabitur phasellentesque.

Continue Reading »

Lorem ipsum dolor

Nuncsed sed conseque a at quismodo tris mauristibus sed habiturpiscinia sed.

Nuncsed sed conseque a at quismodo tris mauristibus sed habiturpiscinia sed. Condimentumsantincidunt dui mattis magna intesque purus orci augue lor nibh.

Continue Reading »



हमसे जुड़ने के लिए !

आप हमें ई-मेल कर सकते है या फोन करें।

Digital Newsletter
Tel: +91 9868065222 

mail: infomslive@gmail.com